बिहार की राजनीति पूरे देश को दिशा दिखाती है. ऐसे में बिहार ही नहीं बल्कि पूरे देश को इस बात की जिज्ञासा है कि आखिर बिहार में विधानसभा के चुनाव कब होंगे. कोरोना की वजह से जिस तरह से लॉकडाउन की वजह से पूरा देश अस्त व्यस्त हो गया था, ऐसे में यह आशंका जताई जाने लगी थी कि बिहार में विधानसभा के चुनाव टल सकते हैं, पर अब ऐसा नहीं है.

चुनाव आयोग ने शुरु की तैयारियां

बिहार में चुनाव आयोग की सरगर्मियां तेज हो चुकी है. चुनाव आयोग के अधिकारियों की कार्यशैली इस बात की ओर इशारा कर रही हैं कि बिहार में नीयत समय पर ही चुनाव होंगे. तारीखें आगे बढ़ने के कोई आसार नहीं नजर आ रहे हैं. पिछले 03 जून को बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधिक्षकों से विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरु करने का निर्देश दिया था. वोटर लिस्ट में नए मतदाताओं का नाम जोड़ने की प्रारंभिक प्रक्रिया शुरु हो चुकी है.

सितंबर में हो सकती है अधिसूचना जारी

मुख्य निर्वाचन अधिकारी से सभी जिलाधिकारियों ने भी स्पष्ट रुप से कहा कि वो चार महीने के अंदर चुनाव की सभी तैयारियां पूरी कर सकते हैं. ऐसे में यह माना जा सकता है कि अगर तय समय पर ही बिहार विधानसभा के चुनाव होंगे तो संभवतः निर्वाचन आयोग सितंबर महीने में अधिसूचना जारी कर सकता है.

जल्द हो सकती है सर्वदलीय बैठक

चुनाव आयोग अपनी परंपरा के अनुसार जल्द ही बिहार के सभी मान्यता प्राप्त क्षेत्रीय एवं राष्ट्रीय दलों के साथ सर्वदलीय बैठक बुला सकता है जिसमें सभी दलों के प्रतिनिधियों की राय सुनी जा सकती है.

नवंबर के प्रथम सप्ताह में आ सकते हैं नतीजे

बिहार में चुनावी प्रक्रिया सितंबर के दूसरे तीसरे सप्ताह से लेकर नवंबर के पहले सप्ताह तक चल सकता है. नवंबर के पहले सप्ताह के अंत या दूसरे सप्ताह के शुरुआत में चुनावी नतीजे आ सकते हैं जिसके साथ ही यह तय हो जाएगा कि सूबे बिहार का नया निजाम कौन होगा!