बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और वर्तमान में बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं तेजस्वी यादव. बेहद विनम्रता और सक्रियता के साथ बिहार से जुड़े मुद्दों को सड़क से लेकर सदन और सोशल मीडिया पर उठाते रहते हैं. इस बार के विधानसभा चुनाव में वो अपनी पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार भी हैं. इसी बीच तेजस्वी ने जो कर दिखाया है, वो आज तक देश के बड़े बड़े नेता भी नहीं कर सकते हैं. तेजस्वी यादव ने अपनी पिछली सरकारों से हुई गलतियों के लिए सार्वजनिक रुप से क्षमा याचना की है.

लालू राबड़ी सरकार में हुई गलतियां

तेजस्वी यादव मानते हैं कि 15 साल के राजद शासन काल में कुछ गलतियां हुई होंगी और इसके लिए वो बिहार की जनता से क्षमा प्रार्थी हैं. तेजस्वी ने यह भी कहा कि वो उस वक्त काफी छोटे से थें, लिहाजा क्या कुछ हो रहा है, वो इससे अनजान रहते थें. तेजस्वी ने कहा कि यह बात सही है कि हम 15 सालों तक बिहार की सत्ता में रहें लेकिन उस दौरान हम तो सरकार में नहीं थें.

तेजस्वी ने मांगा एक मौका

एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि उनके पिताजी लालू प्रसाद यादव ने अपने 15 साल के शासनकाल में सामाजिक न्याय कायम किया. इस दौरान अगर कोई कमी रह गई है तो वह इसके लिए क्षमा याचना करते हैं. इसके साथ ही तेजस्वी यादव ने बिहार की जनता से अपने लिए एक मौका मांगा और सरकार बनाने की अपील की. तेजस्वी ने यहां तक कहा कि अगर बिहार की जनता उनके लिए एक कदम आगे चलती है तो वो उनेक लिए चार कदम आगे तक चलने के लिए तैयार हैं.

ऐसा कोई नेता नहीं करता

तेजस्वी यादव ने क्षमा मांग कर राजनीति में एक नई मिसाल कायम की है वरना आज के नेता तो गलती पर गलती किए चले जाते हैं और उन्हें सुधारना तो दूर की बात माफी मांगने की बजाय प्रवक्ताओं और सोशल मीडिया टीम से कुतर्क की बरसात कराने लगाते हैं. अपनी गलतियों और कमियों को स्वीकार करने की बजाय दूसरों पर आक्षेप लगाकर उसे ढंकने का प्रयास करने लगते हैं. ऐसे में तेजस्वी यादव ने अपनी सरकार की गलतियों के लिए बिहार की जनता से सार्वजनिक रुप से जिस तरह से माफी मांगी है, वो काबिल ए तारीफ है.