सिक्ख राजनीति में एक नया मोड़ आ गया है. पंजाब के जाने माने अकाली नेता और राज्यसभा सांसद सुखदेव सिंह ढींढसा ने एक नए अकाली दल का गठन कर दिया है. यह दल प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व वाले शिरोमणि अकाली दल के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. मंगलवार को लुधियाना के माॅडल टाउन स्थित गुरुद्वारा शहीदां में हुए एक सम्मेलन में इस पार्टी के गठन का प्रस्ताव रखा गया, जिसे सर्वसम्मति से उपस्थित संगत ने पारित कर दिया. पूर्व सांसद परमजीत कौर गुलशन ने पार्टी प्रधान के लिए सुखदेव सिंह ढींढसा का नाम आगे रखा जिस पर सभी ने अपनी मुहर लगा दी.

Former Akali Dal MP Paramjit Kaur Gulshan joins Dhindsa camp in ...

 

सिक्ख कौम की भलाई उद्देश्य

पार्टी के नवनिर्वाचित प्रधान सुखदेव सिंह ढींढसा ने इस मौके पर कहा कि पार्टी का नाम शिरोमणि अकाली दल ही रहेगा, चूंकि पहले से प्रकाश सिंह बादल की पार्टी का नाम भी यही है तो संभव है कि इसके रजिस्ट्रेशन में कुछ तकनीकी अड़चन आ सकती है, ऐसी परिस्थिति में इस पार्टी का नाम शिरोमणि अकाली दल डेमोक्रेटिक होगा. पार्टी का उद्देश्य सिक्ख कौम और पंजाब की भलाई करेगी.

Day after Dhindsa, son's suspension, rumblings grow within Akali ...

बादल परिवार को सजा दिलाई जाएगी

Akalidal | अकाली दल में आपसी कलह बढ़ी ...

सुखदेव सिंह ढींढसा ने रणजीत सिंह ब्रह्मपुरा समेत सभी पंथक आगुओं को एक प्लेटफाॅर्म पर आने का आह्वान करते हुए कहा कि हम शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का चुनाव भी लडेंगे और इसमें जीत भी हासिल करेंगे. शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में रह कर अब तक जितने भी घपले बादल परिवार ने किए हैं, उन सबकी जांच होगी और उन्हें सजा दिलाई जाएगी.

सत्ताधारी कांग्रेस को हो सकता है फायदा

Punjab slams Canada over Sikh extremism - india news - Hindustan Times

सुखदेव सिंह ढींढसा का पंजाब की राजनीति में अपना अलग वजूद है. उनके पुत्र परमिंदर सिंह ढींढसा भी विधायक हैं. ऐसे में अगर वो अपना अलग अकाली मोरचा खड़ा कर पंजाब विधानसभा चुनाव में अपने उम्मीदवार उतारते हैं तो निश्चित ही यह सत्ताधारी कांग्रेस के लिए अच्छी और विपक्षी शिरोमणि अकाली दल बादल के लिए बुरी खबर होगी.