अभी जैसी खबर राजस्थान की राजधानी जयपुर से आ रही है कि सीएम अशोक गहलोत के आवास पर 106 विधायक पहुंच चुके हैं. कांग्रेस के साथ साथ निर्दल विधायक भी इनमें शामिल हैं. राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बचाने के लिए 101 विधायकों की जरुरत होती है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि सचिन पायलट, सिंधिया की राह पर चलने के चक्कर में बुरे फंस चुके हैं क्योंकि उनके रहने या जाने से राजस्थान की सरकार पर कोई फर्क पड़ता नहीं दिख रहा.

Ashok Gehlot camp wants to oust Sachin Pilot as PCC president, say ...

विधायकों ने भाजपा के साथ जाने से किया इंकार

दावा किया जा रहा था कि सचिन पायलट के पास 30 विधायक हैं. अगर 30 विधायक होते तो फिर अशोक गहलोत के आवास पर 106 विधायक कहां से पहुंच गए ? सूत्रों की मानें तो पायलट समर्थक कई विधायकों ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में जाने से इंकार कर दिया है. इसके बाद से राजस्थान में प्रगतिशील कांग्रेस के नाम से तीसरा मोरचा बनाने की बात सामने आ रही है. न्यूज 18 की खबरों को मानें तो अभी पायलट के साथ 17 विधायक हैं.

Gehlot Summons Meeting Of Party MLAs As Pilot Remains Incommunicado

पार्टी से निकाले जा सकते हैं पायलट

अगर पायलट के पास 17 विधायक होने की खबर सही भी है तो वो कुछ खास करने की स्थिति में नहीं है क्योंकि गहलोत के पास सरकार बचाने के बाद पूरे नंबर मौजूद हैं, पर फिर भी अगले 06 घंटे राजस्थान और कांग्रेस के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं.