रामविलास पासवान के निधन के बाद लोक जनशक्ति पार्टी बिखर जाएगी क्योंकि चिराग पासवान से पार्टी नहीं संभलने वाली. उन्हें सही और गलत की समझ नहीं है. राजद दलित प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार साधु ने ये भविष्यवाणी आज से ठीक दो साल पहले की थी.

आपको बताते चलें कि अनिल कुमार साधु स्वर्गीय रामविलास पासवान के दामाद और चिराग पासवान के बहनोई हैं.
अनिल साधु की ये भविष्यवाणी आज सही साबित होती हुई नजर आ रही है. जिस तरह से एनडीए में रहकर चिराग पासवान ने नीतीश कुमार और जदयू के खिलाफ मोरचा खोला, उसने आज चिराग के लिए खतरा पैदा कर दिया है. लोजपा के अस्तित्व को समाप्त करने के लिए जदयू ने पूरे तरह से कमर कस लिया है.

राजद टिकट देगा तो ससुर के खिलाफ लड़ूंगा : रामविलास के दामाद - Will fight  against Ram Vilas Paswan if RJD gives tickets, says son-in-law Anil Kumar  Sadhu - India TV Hindi

चिराग पासवान के लिए सबसे तकलीफदेह यह है कि जिन नरेंद्र मोदी को वो अपना राम और खुद को हनुमान बता रहे थें, वो राम भी अब उनसे किनारा करते हुए नजर आ रहे हैं. लोजपा की इकलौती एमएलसी थी नूतन सिंह.. जिन्हें भाजपा ने तोड़ कर अपने दल में शामिल कर लिया है. बिहार विधान परिषद से अब लोजपा का राम नाम सत्य हो गया है.

आगे, चिराग पासवान क्या करेंगे, उस पर लोजपा का वर्तमान और भविष्य टिका हुआ है लेकिन राजद नेता अनिल कुमार साधु की भविष्यवाणी फिलहाल सच होती हुई नजर आ रही है.

चिराग के सामने दो ही रास्ते

लोजपा प्रमुख चिराग पासवान के पास अपनी पार्टी के अस्तित्व को बचाने के अब दो ही रास्ते हैं. या तो वो एनडीए छोड़कर यूपीए में शामिल हो जाए या फिर आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में अकेले उतरने की आज ही घोषणा कर दें, तभी उनकी पार्टी और संगठन का विस्तार हो सकेगा अन्यथा उन्हें भी उपेंद्र कुशवाहा और पप्पू यादव की लिस्ट में शामिल होना पड़ जाएगा.